दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Tuesday, April 22, 2008

बैंगन चना मसाला....फ्रॉम मुलतान:)




बैंगन चना मसाला ...आपने इसका नाम सुना है ? मैंने नही सुना था जब आज से २५ साल पहले मेरी शादी हुई तब :) यह एक मुलतानी सब्जी है मतलब मुलतान में रहने वाले इसको शायद बनाते होंगे ॥मेरे ससुराल वाले वहीं से हैं सो मैंने नाम दिया है इसको मुलतानी बैंगन चना मसाला :)
मुझे खाना बनाना आता था पर अक्सर मम्मी के घर दो और छोटी बहने थी वह हमे रोटी बनाने का काम दे देती थी सब्जी बनाने का मौका मुझे कम ही मिल पाता था यह उनकी चालाकी थी कि रोटी बनाने में ज्यादा देर गैस के सामने कौन बैठा रहे ऐसा उन्होंने मुझे शादी के बाद बताया जब रोटी उन्हें बनानी पड़ी :) खैर ससुराल में तो दोनों ही मुझे बनाना था ॥यहाँ पर कुछ दिन तो वही बनाया जो मम्मी के घर में बनता था ..एक दिन सासू माँ बोली कि चने -बेंगन मसाला बनाओ आज जल्दी से बन जायेगा चने तो उबले पड़े ही हैं ....मुझे लगा कि चने अलग और साथ में बेंगन की सब्जी अलग बनानी है ..जल्दी कैसे बनेगा यह ? सोचते सोचते .रसोई में आ करे चने का मसाला बनाने लगी ही थी कि सासू माँ बोली यह मसाला किस किए ..मेरे ससुराल में प्याज इस्तेमाल नही होता सो सिर्फ़ अदरक और टमाटर का मसाला बनाते हैं ..मैंने कहा चने के लिए बना लूँ फ़िर बेंगन के लिए अलग से बनाती हूँ ...वह हंसने लगी और समझ गई कि मुझे यह बनानी नही आती ..और उन्होंने फ़िर मुझे उसको बनाने का तरीका बताया ...४ सदस्यों के लिए यह विधि है और बहुत आसान और जल्दी से बनने वाली :)

इसके लिए आपको चाहिए ..

१:उबले हुएसफ़ेद चने ..२ कटोरी ..यदि आप चने वैसे बना रही हैं तो दो कटोरी अलग से इस सब्जी के लिए रख सकती हैं ..:)
२ एक मध्यम आकार का बेंगन गोल भड़ते वाला
३:)एक छोटा अदरक का टुकडा
४:)सरसों का तेल २ बड़े चम्मच
५:)एक या दो हरी मिर्च
६:)जीरा एक चम्मच
७:)हींग चुटकी भर
८:)नमक स्वादनुसार
९:)लाल मिर्च आधा चम्मच
१०::)हल्दी चोथाई चम्मच
११::)सूखा धनिया आधा चम्मच

और खूब सारा हरा धनिया :) मुझे बहुत पसंद है आपको पसंद है तो डाले जरुर

चने आपके पास पहले ही उबले हुए हैं , तेल को अच्छे से लोहे की कड़ाई में गर्म करके उस में जीरा हींग चटका ले , फ़िर हल्दी और सुखा धनिया डाल करे चने डाल दे .थोडी देर इसको इस में अच्छे से हिला करे मिलाये फ़िर छोटे छोटे टुकड़े में कटे हुए बेंगन इस में मिला के अच्छे से हिला दे ...अब डाले सारे मसाले कसा हुआ अदरक बारीक कटी हरी मिर्च औरइसको १५ से २० मिनट तक धीमी आंच में पकने दे .चने गले हुए हैं बैंगन जैसे ही इस में मिक्स हो जाए .ऊपर से हरा धनिया डाल के परोसे .झटपट बनने वाली सब्जी है और आयरन से भरपूर और बहुत ही अलग सा स्वाद लिए हुए ..बना के बताये आपको कैसी लगी ..पहली बार कोई रेस्पी विधि लिख रही हूँ कुछ गलती रह गई हो तो भी यह बेंगन चना मसाला ठीक और अच्छे बनेंगे क्यूंकि इस में डालने वाला समान सब सही है :)

रंजू भाटिया

9 comments:

रचना said...

receipe i will try and then tell how its but post presentation is excellent

मीनाक्षी said...

दाल रोटी चावल ब्लॉग की पहली विधि तो हमारे लिए नई है. विधि लिखने का तरीका भी लाजवाब है.

anitakumar said...

रंजना जी वाकई हमारे लिए ये एकदम नयी चीज है नाम भी नहीं सुना था और कभी सोचा भी नहीं था कि भड़ते वाला बैंगन चने के साथ मिलाया जा सकता है। फ़ोटोस भी सुंदर हैं और प्रेसेन्टेशन का तरीका भी। इस ब्लोग पर पहली पोस्ट लिखने के लिए आप को बधाई

उन्मुक्त said...

मैंने तो इस सब्जी का नाम पहली बार पढ़ा (सुना)।

mamta said...

रंजना जी जितना निराला नाम ब्लॉग का है उतना ही निराला नाम आपकी सब्जी का। :)
पहली रेसिपी की बधाई और शुक्रिया।
भाई पढने मे तो लाजवाब लग रही है ये बैगन चना मसाला । अब बनाकर खायेंगे।

Bhupendra Raghav said...

देखो भाई
ये नई रेसीपी हमें बहुत भायी
क्या बैंगन चना मसाला की सब्जी बनाई..
पढने में ही जब इतनी खुशबू आई
तो स्वाद तो लाजमी लाजवाब होगा भाई

हम तो आज ही फरमाइश करेंगे
गृह मंत्रालय से घर जाकर..
कि बैंगन चना मसाला खिलायें बनाकर..

प्रिंटआउट साथ लाया हूँ
अभी अभी नेट पर खाकर आया हूँ

बहुत बहुत धन्यवाद आपको..
और अगर बनकर खिलायें तो अति कृपा..

-नमस्कार

रचना said...

जितना निराला नाम ब्लॉग का है
blog naam aap ko bhayaa
dhnyavaad

रंजू said...

आप सबने मेरी इस रेस्पी को सराहा और लिखने की विधि को भी पसंद किया शुक्रिया ..जल्द ही मैं यहाँ पर वह कमेंट्स भी चाहूंगी जिन्होंने इसको बना के देखा और फ़िर खा के असल में पसंद किया :)

azad said...

i will certainly try this
once i visted khatouli sugaur mill
cheif engineer take me for a lunch in their guest house the (maharaj) chief cook had cooked mixed vegetable with chana it was fantastic with chpati or rice
i told later by engineer that this is very special dish of the chief cook