दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Saturday, November 1, 2008

अरहर की दाल एक व्यंजन अनेक

दाल अरहर यूपी स्टाइल जाडे मे
एक कटोरी अरहर की दाल को कुकर मे डाल कर इतना पानी डाले की डाल पूरी तरह भीग जाए और एक अंगुल पानी ऊपर रहे । इसमे हल्दी एक चुटकी और नमक स्वाद अनुसार डाले । अब इसको तक़रीबन ५ मिनट तक प्रेशर कुक करे । इसके बाद कुकर का ढक्कन और प्रेशर हटा दे और इस दाल को धीमे आंच पर गाढा होने दे । अगर पानी कम हो तो बढ़ा दे पर दाल गाढ़ी होनी जरुरी हैं । गाढी होने की निशानी हैं की रखने के बाद उपरी सतह पर पानी नहीं आना चाहीये । करीब १० मिनट मे एक कटोरी दाल गाढ़ी हो जाती हैं ।
दाल का छौक
आधी कटोरी देसी घी तेज गरम करे और इसमे एक प्याज बारीक कटा हुआ डाले । प्याज गोल्डन हो जाए तो उसमे अंदाज से कला जीरा डाले । अब इसमे २ - ३ साबुत सूखी लाल मिर्च डाले और पकाए । लाल मिर्च के ऊपर की डंडी मत तोडे । लाल मिर्च एक दम फूल जायेगी ।
अब गाढ़ी की हुई गरम गरम दाल मे ये छोंक लगाए और गरम गरम परोस कर खाए ।

दाल अरहर यूपी स्टाइल गर्मी मे
लखनऊ मे गर्मी मे जब अरहर की दाल बनाई जाती हैं तो उसमे कैरी यानि कच्चे आम की गुठली जरुर डाली जाती हैं । ऊपर दी गयी विधि मे जब आप दाल को प्रेशर कुक करने के लिये चढाते हैं तो उसी समय एक कच्चे आम की गुठली उसमे डाल दे । पानी की मात्रा बढ़ा दे क्युकी खट्टा आम डाल देने की वजह से डाल को पकने मे ज्यादा समय लगेगा ।
बाकी पूरी विधि ऊपर की तरह ही होगी । खाते समय इस गुठली को चूस चूस कर खाने का अपना अलग मज़ा हैं ।

दाल अरहर ढाबा स्टाइल या दाल फ्राई
आधा कटोरी अरहर की दाल और आधा कटोरी चने की दाल को कढाई मे हल्के घी मे भुन ले दो से तीन मिनट तक । अरहर कर चने की दाल को कुकर मे डाल कर इतना पानी डाले की दाल पुरी तरह भीग जाए और अंगुल पानी ऊपर रहे । इसमे हल्दी एक चुटकी और नमक स्वाद अनुसार डाले । अब इसको तक़रीबन ३ मिनट तक प्रेशर कुक करे । कुकर की स्टीम तुंरत निकाल दे ।
दाल का छौक
आधी कटोरी देसी घी तेज गरम करे और इसमे एक बारीक कटा हुआ टमाटर और एक बारीक कटा हुआ प्याज और दो तीन हरीमिर्च बारीक कटी डाल कर पकाए । अब इसमे पानी का छीटा दे बहुत सावधानी से क्योकि कभी कभी लपट उठ जाती हैं { कभी ऐसा हो जाए तो तुंरत गैस बंद कर दे और कच्चा प्याज डाल दे लपट बंद हो जाएगी } फिर इसमे एक चुटकी खाने वाला सोडा डाले ।
एक मिनट के बाद पकी हुई दाल इस छौक मे डाल दे और धीमे आंच पर ७-८ मिनट तक खोलने दे .और फिर दो चम्मच देसी घी तेज गर्म कर के उसमे १/२ चम्मच पीसी लाल मिर्च डाले और तुंरत दाल मे डाल कर परोसे ।
क्यूटी की दाल
१/२ कटोरी अरहर दाल और १/२ कटोरी छिलका उर्द की दाल कुकर मे डाल कर इतना पानी डाले की दाल पूरी तरह भीग जाए और 3 अंगुल पानी ऊपर रहे । इसमे हल्दी एक चुटकी और नमक स्वाद अनुसार डाले । अब इसको तक़रीबन ५ मिनट तक प्रेशर कुक करे . कुकर खोल कर दाल को मथानी से मैथ ले
दाल का छौक
घी तेज गरम कर के उसमे लहसन २ जवा , प्याज बारीक कटा हुआ , हिंग एक चुटकी , साबुत लाल मिर्च डाले और इस छौक को दाल मे डाले

13 comments:

सतीश पंचम said...

दाल अरहर यूपी स्टाइल गर्मी मे - क्या बात है, नवंबर महीने से सीधे अप्रैल-मई महीने मे पहुँचा दिया आपने तो। इसी बहाने कच्चे आमों से आम का पना बनाने की विधी भी बता दिजिए :) अक्सर मैं भी अरहर की दाल मे कच्चे आम डालकर खाना पसंद करता हूँ । अच्छी पोस्ट।

Dineshrai Dwivedi दिनेशराय द्विवेदी said...

ये उड़द और अरहर साथ पकी कभी नहीं खाई। पका कर देखते हैं।

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...

भाई!
मुझको तो अरहर की पतली दाल जीरे के तडके के साथ खाना बहुत अच्छा लगता है.

दाल -रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ!!!!!!!!!!!

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...

भाई!
मुझको तो अरहर की पतली दाल जीरे के तडके के साथ खाना बहुत अच्छा लगता है.

दाल -रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ!!!!!!!!!!!

अल्पना वर्मा said...

arhar ki daal ke saath chane ki daal nahin banayee--haan--
restaurants mein jo DAL TADKA aap khatey hain--us mein arhar ki dal 3 hissey aur moong [dhuli] ek hissa dal kar saath pakayew jaati hai---aap bhi try karen--jhonk apni marzi se dalen--khatyee na dalen--us ke baad aap bhi bas yahi combination khana pasand karnegy--:)-mera maNna hai.-

thnx

surendra said...

हाँ अच्छा खाना तो घर में ही मिल पाता है.
होटल पर खाते खाते लगभग आठ साल गुजर गए.
वैसे अच्छा लेख है.

Udan Tashtari said...

प्याज के साथ अगर परहेज न हो तो लहसून भी बारीक कटा डाल कर भूरा होने तक भूनें, तब असल पूरबिया स्वाद आयेगा. :)

Mrs. Asha Joglekar said...

Dal Roti khao Prabhu ke gun gao. Zakas.

मेनका said...

daal pasand aayi..

सुनीता शानू said...

शुक्रिया जायकेदार दाल की रेसिपी के लिये...

BHAI ASHWANI said...

Dhaba dal ka tarika batana bahut accha laga

सतीश पंचम said...

इतने दिन बाद फॉलोअप में एक टिप्पणी आने पर यह पोस्ट दुबारा पढ़ा, आनंदम्...आनंदम्।

Manju Mishra said...

कच्चे आम का पना आसान विधि

अगर सुविधा हो तो आम को भून लीजिए नहीं तो स्टीम कुक कर लीजिए ।

ठंडा करके छिलका गुठली अलग कर के गूदे को अच्छी तरह मिक्स कर लीजिए ।

अब उसने थोड़ा पिसा पुदीना, भुना ज़ीरा पाउडर, काला नमक , सादा नमक और थोड़ी सी चीनी मिला दें

इसको साफ़ सूखी काँच की एयर टाइट बॉटल में फ़्रिज में रख लीजिए।

जब मन करे दो-तीन चम्मच मिक्स्चर ठंडे पानी में मिलाइए, थोड़ी कुटी बर्फ़ मिलाइए और ठंडे ठंडे स्वादिष्ट पने का स्वाद लीजिए

नोट : लगभग दो हफ़्ते तक बिना किसी प्रिज़र्वटिव के इसको रख सकते हैं। छोटी छोटी बॉटल में रखें , ताकि निकालते वक़्त सारे मिक्स्चर को बार बार हवा न लगे तो यह जादा दिनों तक सुरक्षित रहता है