दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Saturday, July 12, 2008

एग्ग पुलाव

आधा किलो बासमती चावल
६ अंडे
६ प्याज मध्यम साइज़ के बारीक कटे हुए जुलियन की तरह
६ हरी मिर्च लम्बी कटी हुई जुलियन की तरह
नमक स्वाद अनुसार से थोड़ा ज्यादा
अगर तीखा पसंद हैं तो लाल मिर्च पीसी ३ छोटे चम्मच
देसी घी ६ बडे चम्मच
एक पतीले मे चावल धो कर पकने के लिये रखे । चावल मे पानी रखने का अंदाज बहुत आसन हैं । जितना चावल हैं पानी उतने लेवल तक डाले और उसके बाद आप की सीधे हाथ की पहली ऊँगली के पोर से १.५ पोर तक पानी हो { या आप अपनी सुविधा से डाल ले } । इसमे स्वाद अनुसार से नमक कुछ ज्यादा डाले । पतीले के चारो तरफ़ से देसी घी लगा दे और चावल को तेज आंच पर ढक्कन लगा कर एक उबाल आने दे । क्योकि आपने घी लगा दिया हैं पानी उबल कर नीचे नहीं गिरेगा । उबाल आते ही आंच धीमे कर दे और चावल को पकने दे । ऊपर की तश्तरी पर या ढक्कन पर थोड़ा पानी डाल दे । जैसे ही चावल ३/४ पक जाएगा पानी नीचे हो जायेगा अब इस मे आप अंडे तोड़ना शुरू करे एक किनारे से गोलाई मे अंडे डालते जाए जैसे की हाफ फ्राई एग्ग के लिये डालते है ताकि जर्दी ना टूटे । अंडे डालने के बाद इसको ढक दे और खाने धीमे आंच पर पकाए ।
एक पैन मे देसी घी डाले , गरम करके इस मे बारीक कटा हुआ प्याज गोल्डन फ्राई करे , इसमे कटी हुई हरी मिर्च डाले और हल्का फ्राई करे अब इसमे पीसी लाल मिर्च डाल दे । इस गरम घी को प्याज और मिर्च के साथ पके हुए चावल के ऊपर डाल दे जिसमे अब तक अंडे की जर्दी भी सख्त हो गयी होगी । अगर चावल मे कनकी रह गयी हो तो एक चम्मच घी डाल कर बिल्कुल धीमी आंच पर पकाए ।
६ लोगो के लिये काफी होता हैं । इस डिश को सीधा उसी बर्तन से सर्व करे जिसमे पकाया हैं
पुलाव के साथ कोई भी थिक ग्रेवी वाली सब्जी ले ले । खा कर बताये डिश कैसी लगी

11 comments:

महेंद्र मिश्रा said...

bhai mai to pandit pakka brman thahara . kripya shakahari khane ke bare me jyada batayae to apka abharee rahunga .ji

nav pravah said...

yammyyyyyy....
munh mein pani aa gaya
ALOK SINGH "SAHIL"

Udan Tashtari said...

कल बताते हैं खाकर. बिना खाये ही बेहतरीन लग रही है.

anitakumar said...

ये तो बिल्कुल अलग टाइप का एग्ग पुलाव है, ट्राई करते हैं

अनुनाद सिंह said...

बहुत दिनो बाद इस ब्लाग पर आया हूं। इसकी सामग्री और स्पष्ट प्रस्तुति उत्तम है। हिन्दी जगत के लिये सचमुच खजाना है।

रचना said...

अनुनाद सिंह
आप को ब्लॉग का कलेवर और प्रस्तुती सही लगी थैंक्स . आप को भी निमन्त्रण हैं इस नेह रसोई मे साँझा चूल्हा जलाने का

रचना said...

महेंद्र मिश्रा
इस ब्लॉग पर बहुत सी आसन वेज विधियां हैं अगर आप ने बना ली हो तो बताये सदस्य नई विधि डालेगे . कौन सी विधि मे क्या खारबी आए ये भी बताये ताकि उसको सही करवाया जा सके

रचना said...

Udan Tashtari
aap hindi jagat kae sabsey jyada payment paney vaney blogger bangaye haen party mae nayee dish tirat daale

रचना said...

nav pravah
thanks try jarur karey
eggs bahut fluffy feel daetey haen pulav ko

Mrs. Asha Joglekar said...

Sounds very good .one can add paneer and sliced tomatoes if only vegies are to be used. Thanks .

रचना said...

Mrs. Asha Joglekar
aap ko vishi achchi laagee thanks
par paneer aur tamatar daal to woh traditional ho jayega
par aap nae kament kiya thanks mam