दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Thursday, May 27, 2010

कुछ और सैंडविच

पहले मैं 'नए' सैंडविच कहना चाहता था, फिर सोचा शायद आप लोगों को ये पहले से ही पता होंगे।

१) सत्तू सैंडविच
सत्तू को यूं ही फास्टेस्ट फ़ूड नहीं कहा जाता! सत्तू सैंडविच तो वेज सैंडविच से भी जल्दी तैयार होता है। नाम से ही विधि ज़ाहिर है। सत्तू में नमक, मिर्च, सॉस पानी के साथ मिला कर पेस्ट बना लीजिये। ब्रेड पर लगा कर स्प्रेड की तरह खाइए या फिर सैंडविच बना कर। (सुनने में अजीब लग रहा हो तो चिंता मत कीजिये, खाने में अच्छा लगता है, ट्राई तो कीजिये!)

२) पनीर भुर्जी-सोयाबीन सैंडविच
पनीर को ग्रेट (कद्दूकस) कर लीजिये। न्यूट्रीला (ग्रेन्यूल्स) वाला पानी में थोड़ी देर भिगो दीजिये और फिर टमाटर, प्याज आदि के साथ पनीर और न्यूट्रीला को फ्राई कर लीजिये। (मूलतः पनीर भुर्जी में बस न्यूट्रीला जुड़ गया है!) अब इस मिश्रण को सैंडविच बनाने के लिए उपयोग कीजिये या फिर रोटी/पराठे के साथ खाइए।

हाँ हाँ पता है, ये बेहद आसान और साधारण विधियां हैं। अब नयी, अच्छी विधियों के लिए आप लोग हैं ना। मेरी "प्रयोगशाला" से तो बस यही सब निकलेगा ना!

8 comments:

माधव said...

mouth watering and delicious

nilesh mathur said...

सत्तू सेंडविच तो ट्राई करना ही पड़ेगा, सोच कर ही मुह में पानी आ रहा है !

Jandunia said...

सुंदर पोस्ट

Vivek Rastogi said...

हम भी ट्राई करते हैं, ये सत्तू वाला सेंडविच

VM said...

sattu laaye kahan se....yahan sattu hi nahi milta :(

Mrs. Asha Joglekar said...

sattu ke sandwich bhiya ye to naya purane ka mel hai. meetha sandwich bhee achcha lagega aap masale kee jagah cheeni milalen. majedar recepies.

शोभना चौरे said...

badhiya badhiya .

रचना said...

east meets west