दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Saturday, September 24, 2011

बीमार के लिये वेजिटेबल सूप

बीमार के लिये वेजिटेबल सूप

लौकी ४ छोटे टुकड़े बिना बीज
गोभी ४ फ्लोरेट मुलायम डंठल के साथ
परवल एक कटा हुआ बिना बीज
टमाटर आधा कटा
मूंग की भीगी हुई दाल २ चम्मच

चुटकी भर चीनी
चुटकी भर नमक
चुटकी भर काली मिर्च
बारीक कटा हरा धनिया ३ चुटकी


एक गिलास पानी में ये सब सब्जिया कुकर में प्रेशर कुक कर ले तकरीबन ३-५ मिनट ।
कुछ देर ठंडा कर ले और फिर छान ले ।

पानी अलग करके बाकी सब को मसाले की तरह पीस ले मिक्सी में और फिर वही पानी वापस उसमे डालदे और फिर ब्लेंडर में डाल कर दुबारा ब्लेंड कर कर ले

इस सूप को फिर छान ले और गुदा अलग करके सूप को छान कर दुबारा कुकर में डाल कर गरम कर ले यानी एक उबाल दे दे ।

इसको फिर बीमार को पीने को दे । इसमे घी या क़ोई भी वसा नहीं पड़ेगा ।

8 comments:

मीनाक्षी said...

आपकी इस पोस्ट ने फिर याद दिला दिया कि चलो यह सूप भी बनाने की तैयारी की जाए ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

Neeraj Dwivedi said...

Mujhe bhi cooking karna bahut achcha lagta hai, bahut abhar apka.
My Blog: Life is Just a Life
My Blog: My Clicks
.

वन्दना said...

बहुत बढिया।

DR. ANWER JAMAL said...

चलो यह सूप भी बनाने की तैयारी की जाए ...

आशा जोगळेकर said...

बीमार क्या इसे तो हम भी पीयेंगे .

अजय कुमार झा said...

बहुत ही काम जी जानकारी , घर में बना सूप ..असरकारक और गुणकारी वाह जी वाह

Udan Tashtari said...

मजेदार रहा...बना कर पी भी चुके तब कमेंट कर रहे हैं.