दाल रोटी चावल सदियों से नारी ने इसे पका पका कर राज्य किया हैं , दिलो पर , घरो पर। आज नारी बहुत आगे जा रही हैं सब विधाओं मे पर इसका मतलब ये नहीं हैं कि वो अपना राज पाट त्याग कर कुछ हासिल करना चाहती हैं। रसोई की मिलकियत पर से हम अपना हक़ तो नहीं छोडेगे पर इस राज पाट का कुछ हिस्सा पुरुषो ने होटल और कुछ घरो मे भी ले लिया हैं।

हम जहाँ जहाँ ये वहाँ वहाँ

Tuesday, November 18, 2008

नारियल के लड्डू

चलिए कुछ मीठा हो जाए , वह भी मिनटों में। अगर अचानक मेहमान आ गए और घर में कुछ भी ऐसा नहीं है कि उनके सामने रखा जा सके। तब तो मैं आपको बस इतनी देर में बना कर दे सकती हूँ जितनी देर में आप उनको पानी देने में देर लगाती हैं।

सामग्री:
नारियल का बुरादा
बूरा शक्कर
मलाई

विधि:
जितने लड्डू बनाने हों उस हिसाब से नारियल का बुरादा एक प्लेट में डालें । उसमें इतना बूरा या पिसी हुई शक्कर मिलाएं जितने में मीठा हो जाए, अगर कम मीठा पसंद हो तो कम ही मिलाएं। दोनों को अच्छी तरह से मिलाने के बाद, उसमें गाढ़ी मलाई डालें । इसमें मलाई कि मात्रा कम ही डालें क्योंकि यह बहुत जल्दी ही गीला हो जाता है। अगर गीला हो ही जाए तो उसमें नारियल का बुरादा और मिला लें। बस सबको मिलकर उसके गोल-गोल लड्डू बना लें और प्लेट में सजा कर पेश करें।

बचे हुए लड्डुओं को फ्रिज में रख दें , जब चाहे निकाल कर खाएं.

5 comments:

Rachna Singh said...

kyaa baat haen padh kar muh mae paani aagaya

seema gupta said...

mujhe bhut pasand hai, thanks"

regards

Rekha Srivastava said...

रचना बना कर भेज दूं क्या? आ सकते हैं.

Rachna Singh said...

rekha ji
thanks
is meethey offer kae liyae

kyaa chuarithae ki pakodi ki receipe aatee haen ??????
!!!!!!!!

Rekha Srivastava said...

Rachnaji,

chuarithae meri samajh nahin aa raha hai, ham jisako chaurethi bolate hain vahi hai na, ya phir kuchh aur. kya yah chaval ke aate se related hai. yadi han to main receipe bhej sakti hoon.